Barsaat Ka Mausam Essay Topics

My Favourite Season Essay in hindi मेरा प्रिय मौसम वर्षा ऋतु है. क्यूकि वर्षा ऋतु में जब पहली बार बारिश की बूंदे धरती पर पड़ती है तब उसकी सोंदी -सोंदी खुशबू मन में आनंद का भाव उत्पन्न कर देती है. वर्षा ऋतु के आने से चारों ओर हरियाली छा जाती है. यह हमारे मन को आनंद से भर देता है, इसलिए मुझे यह मौसम पसंद है.

मेरा प्रिय मौसम पर निबंध

My Favourite Season Essay in hindi

मौसम साल के भाग होते है, जिनका उल्लेख दिन के प्रकाश, पर्यावरण और मौसम में बदलाव से होता है. पृथ्वी सूर्य के चारों ओर एक ही कोण में चक्कर लगाती है, जिससे हमें अलग – अलग मौसमों का अहसास होता है. मौसम का अनुमान पृथ्वी के तापमान पर निर्भर करता है. पृथ्वी की सतह पर सूर्य की किरणों की प्रबलता में आये बदलाव से, मौसम का अनुमान लगाया जाता है.

पृथ्वी के दो गोलार्ध होते है उत्तरीय गोलार्ध और दक्षिणीय गोलार्ध. जब पृथ्वी का उत्तरीय गोलार्ध सूर्य के तुरंत सम्पर्क में आता है, तब यहाँ का तापमान ज्यादा हो जाता है, जिस वजह से यहाँ गर्मी का मौसम होता है. उसी समय दक्षिणीय गोलार्ध का सूर्य से सम्पर्क कम होता है जिस वजह से वहां का तापमान कम हो जाता है और यहाँ ठण्ड का मौसम रहता है. इसी प्रकार छह महीने बाद इसका उल्टा होता है, जब पृथ्वी का दक्षिणीय गोलार्ध सूर्य से तुरंत सम्पर्क में आता है, तब यहाँ गर्मी का मौसम होता है और उत्तरीय गोलार्ध में सूर्य का सम्पर्क कम होने की वजह से वहां ठण्ड का मौसम रहता है.

आमतौर पर मौसम मुख्य चार प्रकार के होते है बसंत, गर्मी, वर्षा और सर्दी. इन सभी का अनुमान सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की परिक्रमा लगाने से होता है, क्यूकि पृथ्वी की परिक्रमा एक साल में पूरी होती है और मौसम साल के ही भाग होते है. किन्तु पृथ्वी के अलग –अलग भागों में मौसम के अलग –अलग प्रकार बताये गए है, जैसे दक्षिण एशिया के देश भारत, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका के कैलेंडर के हिसाब से यहाँ छह प्रकार के मौसम होते है और इन्हें यहाँ ऋतुयें कहा जाता है.

  • बसंत ऋतु (Spring Season)
  • ग्रीष्म ऋतु (Summer Season)
  • वर्षा ऋतु (Rainy Season)
  • शरद ऋतु (Autumn Season)
  • हेमंत ऋतु (Hemant Season)
  • शीत ऋतु (Winter Season)

भारत देश में इन ऋतुओं के अनुसार अलग – अलग त्यौहार मनाये जाते है. नीचे दी हुई सूची में इन ऋतुओं के तापमान तथा इन ऋतुओं में मनाये जाने वाले त्यौहार दर्शाएँ गए है –

क्र.म.ऋतुएँहिंदी माहग्रेगोरियन माह   तापमान मौसमों के त्यौहार
1.बसंतचैत्र और वैशाखमार्च से मई20-30 डिग्री सेल्सियसबसंत पंचमी, उगादी, गुढीपाडवा, होली, राम नवमी, विशू/ रंगोली बिहू/ वैशाखी/ तमिल पुथांडू/ हनुमान जयंती आदि
2.ग्रीष्मज्येष्ठ और आषाढमई से जुलाईबहुत गर्म, 40- 50 डिग्री सेल्सियसवट पूर्णिमा, रथ यात्रा और गुरु पूर्णिमा
3.वर्षासावन और भाद्रपदजुलाई से अगस्तगर्म, उमस और बहुत ज्यादा वर्षारक्षा बंधन, कृष्ण जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, नौखई, ओणम, गुरुजोणार तिथि
4.शरदआश्विन और कार्तिकसितम्बर से नवंबर19-22 डिग्री सेल्सियसनवरात्रि, विजयादशमी, शरद पूर्णिमा और बिहू
5.हेमंतआग्हन और पौषनवंबर से जनवरी20- 25 डिग्री सेल्सियसबिहू, दीपावली और कार्तिक पूर्णिमा
6.शिशिरमाघ और फागुनजनवरी से मार्च10 डिग्री से काम हो सकता है.शिवरात्रि, शिग्मो, पोंगल और संक्रांति

नीचे इन ऋतुओं और उसमें होने वाले त्योहारों के बारे में बताया गया है, जोकि हिन्दूओं के धार्मिक त्यौहार कहलाते है.

मेरा प्रिय मौसम वर्षा ऋतु ( My Favorite Season Rainy Season)

हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से मानसून का मौसम वर्षा ऋतु कहलाता है. भारत में इस समय बारिश होती है. यह हिन्दू माह सावन और भाद्रपद में आता है. हिन्दू इस समय रक्षा बंधन, कृष्ण जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, नौखई, ओणम, गुरुजोणार तिथि नामक त्यौहार मनाते है. वर्षा ऋतु समर सोलस्टिस में शुरू होती है. कृष्ण जन्माष्टमी पूजा विधि, व्रत भोगके बारे में यहाँ पढ़ें.

यह हर साल ग्रीष्म ऋतु के बाद आती है, विशेष रूप से वर्षा ऋतु का आगमन जुलाई महीने में होता है और यह सितम्बर तक चलता है. ग्रीष्म ऋतु में जल के साधन जैसे समुद्र, नदियाँ आदि से जल भाप के रूप में आसमान में जाता है, वहां जा कर यह जल इक्कठा हो जाता है और यही बादल बनते है. इसलिए जब मानसून आता है, तब आसमान में बादल छा जाते है. जब बहुत सारे बादल एक दूसरे के साथ घर्षण में होते है, तब तूफ़ान आता है और बादल का गरजना, बिजली का चमकना शुरू हो जाता है फिर बारिश होने लगती है.

वर्षा ऋतु के आने से चारों ओर हरियाली छा जाती है. बाग़- बगीचों में रौनक आ जाती है. धरती की प्यास बुझती है. सागर, नदियों और तालाबों का जलस्तर बढ़ जाता है. वन में मोरों का पसंदीदा नाच प्रारम्भ हो जाता है. किसानों और वनस्पतियों के लिए यह मौसम वरदान सिद्ध होता है. क्यूकि किसानों को इस समय खेती में लाभ मिलता है. हरी- भरी धरती और बादलों के आसमान में छा जाने का द्रश्य देखते ही बनता है. वर्षा का मौसम गर्मी से झुलसते जीवों को शांति एवं राहत पहुँचता है, और लोगों का मन आनंदित कर देता है. मुझे यह सब बहुत पसंद है इसलिए यह मेरा प्रिय मौसम है.

वर्षा ऋतु में बारिश होने की वजह से लोग ज्यादातर घर में ही रहते है. इस समय मौसम हल्का ठंडा रहता है, जिस वजह से लोग गरम चीजें खाते है. भारत में हिन्दू इस समय राखी का त्यौहार मनाते है जिसमें बहनें अपने भाई को राखी बांधती है. रक्षाबंधन कविता, निबंधयहाँ पढ़ें. कृष्ण जन्माष्टमी में लोग कृष्ण भगवान की पूजा करते है, और गणेश चतुर्थी में लोग गणेश भगवान की पूजा करते है.

वर्षा ऋतु के लाभ (Advantages of Rainy Season) –

  • वर्षा ऋतू से लाभ ये है कि गर्मी की तेज धूप से राहत मिलती है,
  • वातावरण से गर्म हवा चली जाती है, जिससे लोग राहत महसूस करते है.
  • पेड़ पौधों, घास, और सब्जियों को बढ़ने में मदद मिलती है. चोरों ओर हरियाली छा जाती है.
  • इस मौसम में जानवरों को भी राहत मिलती है, क्यूकि वे हरी घास और पौधों आदि का सेवन कर सकते है, जिससे वे हमें ज्यादा शुद्ध दूध भी देते है.
  • वर्षा अच्छी होने से, उत्पादन अच्छा होता है, जिससे देश में महंगाई कम होती है. किसानों का फायदा मिलता है.

वर्षा ऋतु से हानि (Disadvantages of Rainy Season) –

वर्षा ऋतु में लाभ के साथ – साथ कुछ हानियाँ भी है. वर्षा ऋतु में जब बारिश होती है, तब बारिश का पानी सड़क और बगीचों में भर जाता है, जिससे बहुत मिट्टी और कीचड़ हो जाता है. जिससे बहुत सारी परेशानियां होती है. सड़क और बगीचों में सूर्य की किरणों के न पड़ने की वजह से यहाँ की मिट्टी सूख नही पाती, जिसके कारण कीटाणु पनपने लगते है और यही बिमारियां फैलाते है.

इसके अलावा बाकि ऋतुओं के बारे में भी मैं आपको विस्तार से जानकारी देती हूँ.

हिंदी कैलेंडर के अनुसार बसंत का मौसम बसंत ऋतु कहलाता है. बसंत पंचमी निबंध, कविता यहाँ पढ़ें. भारत में इस समय न तो ज्यादा गर्मी होती है और न ही ज्यादा ठण्ड होती है. यह हिन्दू माह चैत्र और वैशाख में आता है. इस समय यहाँ बहुत से त्यौहार मनाये जाते है, जैसे नया साल, बसंत पंचमी, उगादी, गुढीपाडवा, होली, राम नवमी, विशू/ रंगोली बिहू/ वैशाखी/ तमिल पुथांडू/ हनुमान जयंती आदि. बसंत ऋतु का मध्यबिंदु बसंत संपात में होता है. संपात साल में दो होते है तब, जब दिन और रात बराबर घंटों की होती है. बसंत संपात मार्च की 20 या 21 तारीख को आता है, जब बसंत और मानसून में पृथ्वी की धुरी सूर्य के न ज्यादा पास होती है और न ही ज्यादा दूर होती है. बसंत संपात को विषुव भी कहा जाता है. शरदकालीन संपात सितंबर की 22 या 23 तारीख को आता है.

भारत में बसंत ऋतु में चैत्र माह के पहले दिन नया साल और पांचवे दिन बसंत पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है. इस दिन सभी पीले रंग के कपड़े पहनते है, हल्दी से तिलक करते है, सूर्य, धरती और माँ गंगा की पूजा करते है.

  • ग्रीष्म ऋतु (Summer Season)

हिंदी कैलेंडर के अनुसार गर्मी का मौसम ग्रीष्म ऋतु कहलाता है. भारत में इस समय गर्मी ज्यादा होती है. यह दो हिन्दू माह ज्येष्ठ और आषाढ में आता है. इस समय यहाँ रथ यात्रा और गुरु पूर्णिमा का त्यौहार मनाया जाता है. गुरु पूर्णिमा का महत्व यहाँ पढ़ें. ग्रीष्म ऋतु समर सोलस्टिस के साथ खत्म होती है. सोलस्टिस साल में दो होते है, एक गर्मी में और एक सर्दी में तब, जब सूर्य आसमान के सबसे ऊपर होता है. जून माह में समर सोलस्टिस उत्तरीय गोलार्ध में और विंटर सोलस्टिस दक्षिणीय गोलार्ध में होते है. समर सोलस्टिस जून की 20 या 21 तारीख को आता है, यह साल का सबसे बड़ा दिन होता है. इस समय उत्तरीय गोलार्ध, सूर्य के सम्पर्क में होता है और दक्षिणीय गोलार्ध की सूर्य से दूरी ज्यादा होती है. इसलिए यहाँ इस समय गर्मी का मौसम रहता है.

ग्रीष्म ऋतु में ज्यादा गर्मी पड़ने की वजह से लोग ठंडी चीजों का सेवन करते है. इस मौसम में कई प्रकार के फल भी खाए जाते है जैसे तरबूज, अंगूर, चीकू, लीची, जामुन आदि.

  • शरद ऋतु (Autumn Season) –

हिंदी कैलेंडर के अनुसार शरद रितु आश्विन और कार्तिक में आता है. इस समय हिन्दू नवरात्रि, विजयादशमी, शरद पूर्णिमा और बिहू नामक त्यौहार मनाते है. दशहरा विजयादशमी का महत्व निबंधयहाँ पढ़ें. शरद ऋतु का मध्यबिंदु शरदकालीन संपात में होता है, जब दिन और रात बराबर घंटों की होती है. यह सितम्बर की 22 या 23 तारीख को होता है. इस लिए शरद ऋतु शरदकालीन संपात में आती है. इस मौसम को पतझड़ का मौसम भी कहा जाता है क्यूकि इस समय पेड़ों से पत्ते झड़ते है. वर्षा ऋतु में पेड़ों में नये पत्ते आते है और जब शरद ऋतु का आगमन होता है तो ये सूखने लगते है. शरद ऋतु के आते ही ये झड़ने लगते है जिस वजह से इसे पतझड़ का मौसम कहा जाता है.

भारत में शरद ऋतु में नवरात्रि का त्यौहार बहुत ही हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है.  इस समय हिन्दू माँ दुर्गा की पूजा करते है और 9 दिनों का उपवास भी करते है. दशहरा में हिन्दू रावण दहन करते है, और शरद पूर्णिमा में भगवान को रबड़ी नामक व्यंजन चढ़ाया जाता है. इस तरह शरद ऋतु में लोग इन त्योहारों को ख़ुशी और आनंद के साथ मनाते है. शरद पूर्णिमा निबंध, कविता यहाँ पढ़ें.

  • हेमंत ऋतु (Hemant Ritu) –     

हिंदी कैलेंडर के अनुसार ठण्ड के पहले का मौसम हेमंत ऋतु कहलाता है. इस समय तापमान ज्यादा गरम भी नही रहता है और न ही ज्यादा ठंडा रहता है. यह दो हिन्दू माह आग्हन और पौष में आता है. इस समय हिन्दू बिहू, दीपावली और कार्तिक पूर्णिमा का त्यौहार मनाते है. भारत देश में दीपावली का त्यौहार बड़ा त्यौहार माना जाता है, इस समय लोग लक्ष्मी जी की पूजा करते है. दिवाली पूजा विधि, निबंध यहाँ पढ़ें.

हेमंत ऋतु विंटर सोलस्टिस में खत्म होती है. दिसम्बर माह में विंटर सोलस्टिस उत्तरीय गोलार्ध में और समर सोलस्टिस दक्षिणीय गोलार्ध में होते है. विंटर सोलस्टिस दिसम्बर की 21 या 22 तारीख को आता है, यह साल का सबसे छोटा दिन होता है. इस समय दक्षिणीय गोलार्ध सूर्य के तुरंत सम्पर्क में आने लगता है और उत्तरीय गोलार्ध की सूर्य से दूरी बढ़ने लगती है जिस वजह से यहाँ उस समय हल्का गर्म और हल्का ठंडा मौसम रहता है.

  • शिशिर मौसम (Winter Season) –

हिंदी कैलेंडर के अनुसार ठण्ड का मौसम शिशिर ऋतु कहलाता है. इस समय भारत में ठंडक रहती है. यह हिन्दू माह माघ और फागुन में आता है. इस समय तापमान बहुत कम रहता है जिससे ठण्ड ज्यादा महसूस होती है. इस समय हिन्दू शिवरात्रि, शिग्मो, पोंगल और संक्रांति का त्यौहार मनाते है. शिशिर ऋतु विंटर सोलस्टिस में शुरू होती है. इस समय पृथ्वी के उत्तरीय गोलार्ध की सूर्य से दूरी बढ़ जाती है और दक्षिणीय गोलार्ध सूर्य के सम्पर्क में आ जाता है. इसलिए यहाँ इस समय ठण्ड रहती है. 

शिशिर ऋतु में लोग ठण्ड की वजह से गरम कपड़े पहनते है. यह बहुत लोगों का पसंदीदा मौसम होता है क्यूकि इस समय में गर्मी नही लगती. इस मौसम में लोग धूप में रहना पसंद करते है और गर्म चीजों का सेवन करते है. इस मौसम में लोग संतरे, कीवी, सीताफल आदि फल खाते है. किवी फल के फायदे पढने के लिए यहाँ क्लिक करें.

भारत देश में इस समय संक्रांति का त्यौहार मनाया जाता है, इसमें लोग तिल से बनी चीजों का सेवन करते है. उसके बाद शिवरात्रि का त्यौहार मनाया जाता है इसमें लोग भगवान् शिव की पूजा करते है. इस तरह भारत में इन ऋतुओं को त्योहारों की तरह मनाया जाता है. मुझे ये सभी ऋतुएँ पसंद है किन्तु मुझे वर्षा ऋतु सबसे ज्यादा प्रिय है.

वर्षा ऋतु में हरियाली छा जाती है, फूल खिलने लगते है, आसमान में इन्द्रधनुष दिखाई देने लगते है. पक्षी भी खुशी से चहचहाने लगते है और नाचने लगते है. इन सभी चीजों से मन को बहुत आनंद महसूस होता है इसलिए मुझे यह त्यौहार प्रिय है.

वर्षा ऋतु ऐसी ऋतु है जो लगभग सभी लोगों की पसंदीदा होती है क्योंकि झुलसा देने वाली गर्मी के बाद ये राहत का एहसास लेकर आती है। आपके बच्चों को वर्षा ऋतु की खूबसूरती और खूबियों के बारे में बताने के लिये निबंध उपलब्ध कराया जा रहा है जिससे वो इसके महत्व को समझ सकें।

वर्षा ऋतु पर निबंध (रेनी सीजन एस्से)

You can get below some essays on Rainy Season in Hindi language for students in 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

वर्षा ऋतु पर निबंध 1 (100 शब्द)

वर्षा ऋतु मुझे बहुत पसंद है। ये भारत के चार ऋतुओं में से मेरी सबसे प्रिय ऋतु है। यह गर्मी के मौसम के बाद आती है, जो साल की सबसे गर्म ऋतु होती है। भयंकर गर्मी, गर्म हवाएँ (लू), और तमाम तरह की चमड़े की दिक्कतों की वजह से मैं गर्मी के मौसम में काफी परेशान हो जाता हूँ। हालाँकि, सभी परेशानियाँ वर्षा ऋतु के आने के साथ ही दूर हो जाती है। वर्षा ऋतु जुलाई (सावन) के महीने में आती है और तीन महीने तक रहती है। ये हर एक के लिये शुभ मौसम होता है और सभी इसमें खुशी के साथ ढ़ेर सारी मस्ती करते है। इस मौसम में हम सभी पके हुये आम का लुफ्त उठाते है। वर्षा ऋतु में हम भारतीय बहुत सारे त्यौंहारों को पूरे उत्साह के साथ मनाते है।

वर्षा ऋतु पर निबंध 2 (150 शब्द)

भारत में वर्षा ऋतु का आगमन जुलाई महीने में होता है जब दक्षिण-पश्चिम मानसून की हवाएँ बहना शुरु हो जाती है। हिन्दी महीनों के अनुसार ये आषाढ़ और श्रावण में आता है। सभी इस मौसम का आनन्द उठाते है क्योंकि ताजी हवा और बारिश के पानी वजह से इस मौसम में पर्यावरण बिल्कुल साफ, सुंदर और शीतल हो जाता है। बारिश के पानी से पेड़, पौधे और घास बहुत हरे-भरे, सुंदर और आकर्षक दिखाई देते है साथ ही लंबे गर्मी के मौसम के बाद उनमें नयी पत्तियाँ भी आती है। पूरा वातावरण हरा-भरा हो जाता है जो आँखों को सुकुन पहुँचाता है। इसी मौसम में मेरे ढ़ेर सारे प्यारे त्यौहार आते है जैसे रक्षा बंधन, 15 अगस्त, तीज आदि। इस मौसम में हम ढ़ेर सारे ताजे फलों और खासकर रसीले आमों का स्वाद लेते है। मैं इस मौसम का आनन्द खुल कर लेता हूँ क्योंकि इसी मौसम में मेरी माँ बारिश के दौरान इडली, चाय, पकौड़े आदि बनाती है।


 

वर्षा ऋतु पर निबंध 3 (200 शब्द)

मुझे लगता है कि जिस तरह से मुझे वर्षा ऋतु बहुत पसंद है उसी तरह दूसरों को भी यह मौसम खूब भाता होगा। यह मुझे काफी खुशी और राहत देता है। आखिरकार यह लंबी गर्मी के बाद जो आता है। हमारे किसान भाई इस मौसम के लिये फसलों की तंदुरुस्ती के लिये भगवान इन्द्र से प्रार्थना करते है। भारत में किसानों के लिये इन्द्र देव की बहुत महत्ता है, क्योंकि इन्द्र देव को वर्षा ऋतु का स्वामी माना जाता है। वर्षा ऋतु इस धरती पर पेड़, पौधे, इंसान और जानवरों के लिये नया जीवन लेकर आती है। सभी जीव-जन्तु बारिश के पानी में भीग कर इस मौसम का आनन्द उठाते है।

जब बारिश आती है तो मैं और मेरे दोस्त छत पर जाकर बारिश के पानी में खूब नाचते-गाते है और ढ़ेर सारी मस्ती करते है। कई बार हम बारिश के दौरान स्कूल या स्कूल बस में होते है और हमारे साथ अध्यापक भी होते है तब भी हमलोग खूब मस्ती करते है। हमारे शिक्षक हमें वर्षा ऋतु पर कविता और कहानियाँ सुनाते है जिसका हम सभी खूब लुफ्त उठाते है। जब हम घर लौटते तो हम फिर से बाहर बारिश के पानी में खेलने जाते है। पूरा पर्यावरण हरा-भरा लगता है और ये बेहद साफ और सुंदर दिखाई देता है। इस धरती पर मौजूद हर जीव जन्तु एक नये जीवन का अनुभव करता है।

वर्षा ऋतु पर निबंध 4 (250 शब्द)

भारत में वर्षा ऋतु जुलाई महीने में शुरु हो जाती है और सितंबर के आखिर तक रहता है। ये असहनीय गर्मी के बाद सभी के जीवन में उम्मीद और राहत की फुहार लेकर आता है। इंसानों के साथ ही पेड़, पौधे, चिड़ियाँ और जानवर सभी उत्सुकता के साथ इसका इंतजार करते है और इसके स्वागत के लिये ढ़ेर सारी तैयारियाँ करते है। इस मौसम में सभी को राहत की साँस और सुकुन मिलता है। आकाश बहुत चमकदार, साफ और हल्के नीले रंग का दिखाई पड़ता है और कई बार तो सात रंगों वाला इन्द्रधनुष भी दिखाई देता है। पूरा वातावरण सुंदर और आकर्षक दिखाई देता है। सामान्यत: मैं हरे-भरे पर्यावरण और दूसरी चीजों की तस्वीर लेता हूँ जिससे ये मेरे कैमरे में यादों की तरह रहे। आकाश में सफेद, भूरा और गहरा काला बादल भ्रमण करता दिखाई देता है।

सभी पेड़ और पौधे नयी हरी पत्तियों से भर जाते है तथा उद्यान और मैदान सुंदर दिखाई देने वाले हरे मखमल की घासों से ढक जाते है। जल के सभी प्राकृतिक स्रोत जैसे नदियॉ, तालें, तालाबें, गड्ढें आदि पानी से भर जाता है। सड़कें और खेल का मैदान भी पानी से भर जाता है और मिट्टी कीचड़युक्त हो जाती है। वर्षा ऋतु के ढ़ेर सारे फायदे और नुकसान है। एक तरफ ये लोगों को गरमी से राहत देती तो दूसरी तरफ इसमें कई सारी संक्रामक बीमारियों के फैलने का डर बना रहता है। यह किसानों के लिये फसलों के लिहाज से बहुत फायदेमंद रहता है लेकिन यह कई सारी संक्रमित बीमारियों को भी फैलाता है। इससे शरीर की त्वचा को काफी असुविधा होती है। इसके कारण डायरिया, पेचिश, टाईफॉइड और पाचन से संबंधित परेशानियाँ सामने आती है।


 

वर्षा ऋतु पर निबंध 5 (300 शब्द)

वर्षा ऋतु हम सभी के लिये प्यारा मौसम होता है। सामान्यत: ये जुलाई के महीने में आता है और सितंबर के महीने में जाता है। ये प्रचण्ड गर्मी के मौसम के बाद आता है। ये धरती पर मौजूद हर जीव-जन्तु के लिये एक उम्मीद और जीवन लेकर आता है जो सूरज की ताप की वजह से खत्म हो जाता है। यह अपने प्राकृतिक और ठंडे बारिश के पानी की वजह से लोगों को बहुत राहत देता है। गर्मी के कारण जो नदी और तालाब सूख जाते वे फिर से बारिश के पानी से भर जाते है इससे जलचरों को नया जीवन मिल जाता है। यह उद्यानों और मैदानों को उनकी हरियाली वापस देती है। वर्षा हमारे पर्यावरण को एक नयी सुंदरता प्रदान करती है हालाँकि ये दुख की बात है कि ये सिर्फ तीन महीनों के लिये रहती है।

आम जन जीवन के अलावा वर्षा ऋतु का सबसे अधिक महत्व किसानों के लिये है क्योंकि खेती के लिये पानी की अत्यधिक आवश्यकता होती है जिससे फसलों को पानी की कमी न हो। सामान्यत: किसान कई सारे गड्ढे और तालाब बनाकर रखते है जिससे वर्षा के जल का जरुरत के समय उपयोग कर सकें। वास्तव में वर्षा ऋतु किसानों के लिये ईश्वर के द्वारा दिया गया एक वरदान है। बारिश न होने पर वे इन्द्र देव से वर्षा के लिये प्रार्थना करते है और अंतत: उन्हें वर्षा का आशीर्वाद मिल जाता है। आसमान में बादल छाये रहते है क्योंकि आकाश में यहाँ और वहाँ काले, सफेद और भूरे बादल भ्रमण करते रहते है। घूमते बादल अपने साथ पानी लिये रहते है और जब मानसून आता है तो बारिश हो जाती है।

वर्षा ऋतु के आने से पर्यावरण की सुंदरता बढ़ जाती है। मुझे हरियाली बेहद पसंद है। वर्षा ऋतु के पलों का आनन्द लेने के लिये मैं सामान्यत: अपने परिवार के साथ बाहर घूमने जाता हूँ। पिछले साल मैं नैनीताल गया था और वह एक अच्छा अनुभव था। कई पानी से भरे बादल कार में हमारे शरीर पर पड़े और कुछ खिड़की से बाहर निकल गये। बारिश बहुत धीमे हो रही थी और हम सभी इसका आनन्द उठा रहे थे। हम लोगों ने नैनीताल में बोटिंग (नौकायान) का भी आनन्द उठाया। हरियाली से भरा नैनीताल बहुत अद्भुत लग रहा था।

वर्षा ऋतु पर निबंध 6 (400 शब्द)

भारत में चार मुख्य ऋतुओं में वर्षा ऋतु एक है। यह हर साल गरमी के मौसम के बाद जुलाई से शुरु होकर सितंबर तक रहता है। जब मानसून आता है तो आकाश के बादल बरसते है । गर्मी के मौसम में तापमान अधिक होने के कारण पानी के संसाधन जैसे महासागर, नदी आदि वाष्प के रुप में बादल बन जाते है। वाष्प आकाश में इकट्ठा होती है और बादल बन जाते है जो वर्षा ऋतु में चलते है जब मानसून बहता है और बादल आपस में घर्षण करते है। इससे बिजली चमकती और गरजती है और फिर बारिश होती है।

वर्षा ऋतु के अपने फायदे और नुकसान है। बारिश का मौसम सभी को अच्छा लगता है क्योंकि यह सूरज की तपती गर्मी से राहत देता है। यह पर्यावरण से सभी गर्मी को हटा देता है और एक ठडंक एहसास होता है। यह पेड़, पौधे, घास, फसल और सब्जियों आदि को बढ़ने में मदद करता है। यह मौसम सभी जानवरों और पक्षियों को भी बेहद पसंद होता है क्योंकि उन्हें चरने के लिये ढ़ेर सारी घास और पीने के लिये पानी मिल जाता है। और इससे हमें दिन में दो बार गाय और भैंसों का दूध उपलब्ध हो जाता है। सभी प्राकृतिक संसाधन जैसे नदी और तालाब आदि पानी से भर जाते है।

जब बारिश होती है तो सभी सड़कें, उद्यान तथा खेल के मैदान आदि जलमग्न और कीचड़युक्त हो जाते है। इससे हमें रोज खेलने में बाधा उत्पन्न होती है। सूरज की उपयुक्त रोशनी के बिना सब कुछ बदबू करने लगता है। सूरज की रोशनी की कमी की वजह से बड़े स्तर पर संक्रामक बीमारियों (विषाणु, फफूंदी और बैक्टीरिया से होने वाली) के फैलने का खतरा बढ़ जाता है। वर्षा ऋतु में, भूमि की कीचड़ और संक्रमित वर्षा का पानी धरती के अंदर जाकर पानी के मुख्य स्रोत के साथ में मिलकर पाचन क्रियाओं के तंत्र को बिगाड़ देते है। भारी बारिश के कारण बाढ़ की संभावना भी बनी रहता है।

आखिरकार सभी के द्वारा वर्षा ऋतु को बहुत पसंद किया जाता है। हर तरफ हरियाली ही दिखाई देती है। पेड़, पौधे और लताओं में नयी पत्तियाँ आ जाती है। फूल खिलना शुरु हो जाते है। हमें आकाश में इन्द्र धनुष देखने का बेहतरीन मौका मिलता है। इस मौसम में सूरज भी लुका-छिपी खेलता है। मोर और दूसरे पक्षी अपने पंखों को फैलाकर झूमने लगते है। हम सभी वर्षा ऋतु का आनन्द स्कूल और घर दोनों जगह लेते है।


Previous Story

शरद ऋतु निबंध

Next Story

प्रकृति निबंध

0 thoughts on “Barsaat Ka Mausam Essay Topics”

    -->

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *